लिखिए अपनी भाषा में

Sunday, August 10, 2014

बस्स्स यूँ ही …

 

हाहा .
मुद्दतें हो गईं मुझे राखी पर किसी ने कोई गिफ्ट नहीं दिया.... ...और अगर किसी बार किसी कारण से राखी समय से नहीं पहुँच पाई तो तंज़ करने से नहीं चूके... ...बच्चो के साथ भी राखी का त्योहार मनाए कई साल बीत गये हैं .....आज फिर ऐसा है कि सभी बाहर हैं...मै एकाकी. . क्या बनाऊँ....क्या मनाऊँ...समझ नही पा रही..... . ....अपने दोनों प्यारे भाइयों को राखी पर बहुत सारा आशीर्वाद भेजती हूँ.... और सभी भाइयों को ढेर सी स्नेहिल शुभकामनाएँ.....

राखी सभी के लिए मंगल मय हो.........मेरे पतिदेव के लिए भी मेरी राखी की अनगिनत शुभकामनायें.......मैं हर साल उन्हें भी राखी बांधती हूँ......आखिरकार..मेरे असली रक्षक तो वे ही हैं.....और गिफ्ट्स भी मुझे उनसे ही मिलते हैं हाहाहाहा

1 comment:

  1. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete